The Very White of Love

The Very White of Love

‘A love story told in exquisitely poetic letters’ DAILY MAIL

Torn apart by war, their letters meant everything…

‘My love. I am writing to you without knowing where you are but I will find you after all these long months…’

3rd September 1938. Martin Preston is in his second year of Oxford when his world is split in two by a beautiful redhead, Nancy Whelan. A whirlwind romance blossoms in the Buckinghamshire countryside as dark clouds begin to gather in Europe.

3rd September 1939. Britain declares war on Germany. Martin is sent to the battlefields of France, but as their letters cross the channel, he tells Nancy their love will keep him safe. Then, one day, his letters stop.

3rd September 1940. It’s four months since Nancy last heard from Martin. She knows he is still alive. And she’ll do anything to find him. But what she discovers will change her life forever…

Buy the book The Very White of Love from Ideakart.com.

Step up Journal : Miracles Happen

Step up Journal : Miracles Happen
This reflective journal offers an intentional approach to be able to choose your feelings and emotions consciously by focussing on your daily blessings. These practices help to notice and appreciate all the beautiful things in life even if something has happened in the past that was not as per your wishes.

Now you can choose your thoughts consciously to remain stable, be happier, more creative, productive and smarter. Planning each day focusing on your daily goals helps to gain confidence and strength.
Buy the book Step up Journal : Miracles Happen from Ideakart.com.

Maine Mandu Nahin Dekha

Maine Mandu Nahin Dekha
‘स्वदेश तुम कहां गुम हो गए…’ कृष्णा सोबती|
यह स्वदेश दीपक की सात साल लंबी बीमारी के अनुभवों का दस्तावेज है। इसमें कुछ भी सिलसिलेवार नहीं है, क्योंकि ये खंडित साल हैं। यह किताब न तो बाहरी समय का इतिहास है और न ही किसी मेडिकल जर्नल के लिए लिखा गया पेपर। नौ खंडों में विभाजित इस कृति की विशिष्टता है सच का सामना करने के लिए चुनी गई कोलाज शैली, जो शब्दों के मोंताज, नाटकीय संवादों और विभिन्न कालखंडों में एक साथ यात्रा करती हुई काव्यात्मक तनाव को कभी बिखरने नहीं देती। ये कोलाज एक अंधेरी सुरंग में स्वदेश दीपक के सफर की कहानी कहते हैं, जिनसे वे न सिर्फ बाहर आए, बल्कि पलट कर उस सुरंग को देखने और उसका ब्योरा देने का साहस भी जुटा पाए।
Buy the book Maine Mandu Nahin Dekha from Ideakart.com.

Vicharan/Raza Pustak Mala

Vicharan/Raza Pustak Mala
“इस समय भारत में और विशेषत: हिन्दी अंचल में परम्परा के अज्ञान और उसकी दुव्र्याख्या भयावह रूप से फैल रही है। इसके बावजूद हमारे पास ऐसे सजग, ज्ञानसम्पन्न चिन्तक हैं जिनकी परम्परा में पैठ हमें अपनी आधुनिकता को नये आलोक में देख-समझने की उत्तेजना देती रही है। इनमें से एक हैं नवज्योति सिंह जिनसे एक लम्बी बातचीत यहाँ पुस्तकाकार प्रकाशित की जा रही है। वे नये प्रश्न उठाते हैं, नयी जिज्ञासा उकसाते और विचार की नयी राहें खोजने की ओर बढ़ते हैं। हिन्दी वैचारिकी की जो शिथिल स्थिति है उसके सन्दर्भ में यह पुस्तक एक विनम्र इज़ाफे की तरह है। उम्मीद है कि यह विचार-विचरण पाठक पसन्द करेंगे।” –अशोक वाजपेयी
नवज्योति सिंह का परिचय
नवज्योति सिंह, देश की अग्रणी दर्शनिक और इण्टरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इनफारमेशन टेक्नॉलाजी, हैदराबाद में एक्ज़ेक्ट ह्यूमेनिटीज़ के संस्थापक और अध्यक्ष। भारतीय तकनीकी संस्थान (आई.आई.टी.) कानपुर से स्नातक के बाद नाभिकीय तकनीकी में उच्च अध्ययन। बाद के बरसों में भारतीय सभ्यता में विज्ञान के इतिहास और दार्शनिक आधारों पर शोध। समाज और कलाओं पर सत्ता विषयक चिन्तन। भारतीय/यूनानी विश्लेषणात्मक परम्पराओं की तर्क पद्धतियों और आधुनिकता पर शोध। इन दिनों मानविकी के आधारों पर सत्ता विषयक यान्त्रिकी और डिजीटल मानविकी पर विशेष कार्य। सम्पादित पुस्तकें : टेम्पोरेलिटी एण्ड लॉजिकल स्ट्रक्चर : एण्ड इण्डियन पर्सपेक्टिव, सृष्टि, इट्स फिलोसोफिकल एनटेलमेण्ट्स। पिछले कुछ बरसों से अन्त:करण : मैकेनिक्स ऑफ माइण्ड, पंगचुएटिंग रिएलिटरी : टूवर्डस फॉर्मल फाउण्डेशन ऑफ जस्टिस, हिस्ट्री एण्ड सोसायटी और फ्लेवर ऑफ रीजन इन इण्डियन सिविलाइज़ेशन, अपनी इन तीन पाण्डुलिपियों को अन्तिम रूप दे रहे हैं।
Buy the book Vicharan/Raza Pustak Mala from Ideakart.com.